वायस ऑफ पानीपत (देवेंद्र शर्मा)

अंतरराष्ट्रीय महिला रेसलर बबीता फोगाट रविवार को अपने पैतृक गांव बलाली में भारत केसरी पहलवान विवेक सुहाग के साथ दांपत्य सूत्र बंधन में बंध गईं..सात फेरों के बाद नवदंपती ने आठवां फेरा लेते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के बेटी बचाओ अभियान को आगे बढ़ाने का संकल्प लिया..बबीता की बड़ी बहन गीता और उनके पति ने भी अपने विवाह में आठवां फेरा लेकर बेटी बचाओ का संकल्प लिया था..इस दौरान नवदंपती ने पौधा लगाकर पर्यावरण बचाने का संदेश भी दिया…

बबीता के विवाहोत्सव में फिजूलखर्ची रोकने पर भी जोर दिया गया…केवल 21 बराती आए थे..बबीता के पिता द्रोणाचार्य अवार्डी महाबीर फोगाट ने लोगों से भी अपील की कि घर में बेटी पैदा होने पर उसको पढ़ाने में अपनी शान बढ़ाए..इस अवसर पर दोनों को आशीष देने के लिए कई नेताओं सहित विश्व के नंबर वन पहलवान बजरंग पूनिया, गीता फोगाट के पति पहलवान पवन सरोहा, विनेश फोगाट के पति व पहलवान सोमबीर राठी और विदेशी कोच जर्जिया के साको बैनजीनियस सहित कई अंतरराष्ट्रीय पहलवान भी पहुंचे…

फेरे लेने से पहले बबीता ने कहा- पिता जी हम बहनों को सजने-संवरने नहीं देते थे, आज ख्वाहिश पूरी हुई है…बलाली में हुए सादे समारोह में सिर्फ 21 बाराती आए..विवेक के ताऊ राजपाल और चाचा ओमप्रकाश भी जोड़े को आशीर्वाद देने पहुंचे। इधर, फोगाट फैमिली के सभी सदस्य समारोह में मौजूद रहे…बबीता ने कहा, ‘‘हम बहनों के साथ शादी समारोह में हम जाते थे, तो दूसरी लड़कियों को देखकर कई बार चूड़ियां और अंगूठी पहन लेते थे.. लेकिन पिताजी मना करते थे..वे अक्सर कहते थे तुम्हारा लक्ष्य सिर्फ रेसलिंग होना चाहिए..जब लक्ष्य पा लो तो मेकअप भी कर लेना..मैं दुल्हन का जोड़ा पहनकर बहुत खुश हूं।’’

हरियाणा विधानसभा चुनाव में बबीता फोगाट दादरी से भाजपा प्रत्याशी थीं..इस सीट से निर्दलीय उम्मीदवार सोमबीर विजयी रहे थे.. बबीता ने कहा कि वह शादी जरूर कर रही हैं, लेकिन राजनीति नहीं छोड़ रहीं..वह दादरी से जुड़ी रहेंगी..सरकार के साथ मिलकर यहां के विकास को गति दिलाने के प्रयास करती रहूंगी..लोगों से उन्होंने जो वादे किए थे, उनके लिए पूरा प्रयास करूंगी..

बबीता के छोटी बहन पहलवान संगीता के मंगेतर बजरंग पूनिया भी अपनी शादी से पहले ही ससुराल में साली की शादी में शामिल होने पहुंचे, जहां उनके साढ़ू गीता के पति पवन कुमार ने स्वागत करते हुए गले मिले और एक दूसरे का हालचाल जाना.. पवन और बजरंग पूनिया विनेश के मकान पर बैठे हुए थे..वहीं पर पहलवान विनेश फौगाट आईं और अपने होने वाले जीजा जी बजरंग पूनिया से कहा- बजरंग जी ठीक हो, चाय पाणी पीया के नहीं..

TEAM VOICE OF PANIPAT

 

Share: