वायस ऑफ पानीपत (कुलवन्त सिंह) –: तीन बच्चों की मौत के मामले  में चर्चा में आया डाई हाउस सील कर दिया गया है।बता दें कि  बिझौंल गांव में प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड की टीम ने पहुंचकर हरिओम गुप्ता के डाइ हाउस का निरीक्षण किया। इस दौरान डाइ हाउस बंद मिला और जरनेटर भी वहां नहीं मिला। जिस ट्यूबवेल से भूजल लिया जा रहा था, उसे टीम ने सील कर दिया। बता दें कि पिछले दिनों ब्लीच हाउस से तीन बच्चे पतंग की डोरी लेने गए। जिसके बाद में तीनों के शव बिझौंल नहर से बरामद किए गए। मामले में हत्या का आरोप ब्लीच हाउस के कर्मचारियों पर लगाया गया था। जिसकी जांच एसआइटी कर रही है।

डाइ हाउस को बोर्ड की टीम 3 दिन पहले ही सील कर चुकी थी। उसके बाद भी डाइ हाउस चल रहा था। दोबारा से इस डाइ हाउस की जांच के लिए एसडीओ प्रदीप के नेतृत्व में टीम पहुंची। डाइ हाउस में पानी भरा मिला। वहां कोई मशीनरी नहीं मिली। ट्यूबवेल को सील कर दिया गया है। बिना बिजली कनेक्शन के जरनेटर से डाइ हाउस चलाया जा रहा था। वहां जरनेटर भी नहीं मिला।

प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड के क्षेत्रीय अधिकारी शैलेंद्र अरोड़ा ने बताया कि डाइ हाउस की जांच करवाई गई है। वहां पानी भरा हुआ मिला। जरनेटर भी नहीं था। डाइ हाउस में जिस ट्यूबवेल से पानी लिया जा रहा था उसे सील कर दिया गया है।

TEAM VOICE OF PANIPAT

Share: