वायस ऑफ पानीपत (कुलवन्त सिंह):- 2011 में निम्बरी के तत्कालीन सरपंच राकेश के मर्डर में 20 साल की सजा काट रहे 40 वर्षीय कुलदीप उर्फ विक्का की हत्या के मामले में छोटे भाई नीरज की शिकायत पर सदर पुलिस ने 11 लोगों पर नामजद व 3 अन्य के खिलाफ केस दर्ज किया है। इसमें मृतक सरपंच राकेश के पिता विरेंद्र उर्फ बलिंदर, राकेश के भाई विकास उर्फ विक्का, सुमित उर्फ फौजी, अजीत उर्फ कालू और विशाल, निम्बरी के ही सुरजीत व उसके भाई मंजीत, पूर्व सरपंच प्रेम पुत्र हरिसिंह, अनिल पुत्र कर्ण सिंह, सिंदा पुत्र दलेल, छोटू पुत्र जगीरा और 3 अन्य को मिल जुलकर हत्या करना, हत्या की कोशिश, आर्म्स एक्ट, जान से मारने की धारा में आरोपी बनाया है। वहीं मंगलवार को पुलिस ने मेडिकल बोर्ड से सिविल अस्पताल में पोस्टमार्टम कराया। मृतक कुलदीप के सिर में करीब 3 गोली, एक छर्रा मिला है। उसके शरीर पर 15 से ज्यादा चोट थी। पोस्टमार्टम से पहले एक्सरे कराए गए। फिर रेपिड किट से कोरोना की जांच हुई। रिपोर्ट निगेटिव आने के बाद फोरेंसिक एक्सपर्ट डॉ. नारायण डबास व डॉ. राघवेंद्र ने पोस्टमार्टम किया।

सदर थाने में दर्ज एफआईआर के अनुसार सोमवार शाम नीरज अपने भाई कुलदीप के साथ ठेके के साथ बनी दुकान में बैठा था। करीब 6:15 बजे दो बाइकों पर प्रेम, अनिल, सिंदा व छोटू ठेके पर चक्कर लगाए। विरेंद्र, उसके 4 बेटे विकास, सुमित, अजीत और विशाल, सुरजीत, उसका भाई मंजीत व 3 अन्य बाइकों पर आए और कुलदीप को गोली मार दी। कुलदीप हत्याकांड में 11 नामजद व 3 अन्य के खिलाफ हत्या व अन्य धाराओं में केस दर्ज कर लिया है। आरोपी अभी फरार हैं, उनकी तलाश में सीआईए टीम के साथ छापेमारी कर रहे हैं।

TEAM VOICE OF PANIPAT

Share: