वायस आफॅ पानीपत (कुलवन्त सिंह): पानीपत के विकास नगर के रहने वाले सब्जी विक्रेता को ओएलएक्स पर पुरानी कार पसंद करना महंगा पड़ गया। ओएलएक्स पर मिले ठग ने खुद को सीआईएसएफ का जवान बताया। विश्वास दिलवाने के लिए पहले वाट्सएप पर वीडियो कॉल की। खुद को सेना की वर्दी में दिखाया। उसके बाद वाट्सएप पर सेना का आईडी कार्ड, कैंटीन कार्ड भेजा। 53 हजार रुपये पेटीएम करा लिए। उसके बाद कार पार्सल बुकिंग की स्लिप भेज 16 हजार रुपये और मांगे। इस पर पीड़ित को शक हो गया। थाना सेक्टर- 29 पुलिस ने आरोपित को कॉल कर रुपये वापस करने को बोला तो उसने गाली-गलौज की। कहा कि चाहे जहां शिकायत कर ले मैं रुपये नहीं देता। फिलहाल पुलिस केस दर्ज कर मामले की जांच में जुट गई है।

वार्ड नंबर 16 स्थित विकास नगर के रहने वाले जॉनी ने थाना सेक्टर- 29 में शिकायत दी। बताया कि वह फेरी लगाकर सब्जी बेचते हैं। उन्होंने 7 जुलाई को ओएलएक्स पर ऑल्टो कार देखी। जिसे 55 हजार में बेचने की बात लिखी थी। जब उन्होंने उसमें दिए नंबर पर कॉल किया तो सामने वाले ने खुद का परिचय सीआईएसएफ के जवान के रूप में बताया। बताया कि वह 4 महीने पहले पानीपत में ही पोस्टेड था। अब ट्रांसफर जयपुर हो गया है। इसलिए कार बेचना चाहता है। कुछ देर बाद उसने सीआईएसएफ में नौकरी के दस्तावेज वाट्सएप भेज दिए। वाट्सएप पर ही वीडियो कॉल किया। खुद को सेना की वर्दी में दिखाया। उसके कंधे पर हथियार पर लटका था। वह विश्वास में आ गए। उसके द्वारा बताए गए पेटीएम नंबर पर 53 हजार रुपये ट्रांसफर कर दिए।

जॉनी ने बताया कि रुपये ट्रांसफर करने के एक घंटे बाद ही उसने कार पार्सल बुकिंग की स्लिप सेंड कर दी। फिर कॉल किया। कहा कि अभी आपको 16 हजार रुपये और ट्रांसफर करने होंगे। वह बाद में रिफंड हो जाएंगे। यह सेना का नियम है। कहा कि रुपये नहीं दिए तो बुकिंग कैंसिल हो जाएगी। यह बात सुन उन्हें शक हो गया। रुपये देने से इनकार कर दिया। इसके बाद वह लगातार कॉल करता रहा।

उन्होंने घटना की जानकारी थाने में दी। पुलिस कर्मी ने उस नंबर पर कॉल किया तो वह गाली-गलौज करने लगा। कहने लगा कि तू किसी से भी शिकायत कर ले मैं रुपए नहीं देता। जांच अधिकारी विकास ने बताया कि केस दर्ज कर मामले की जांच शुरू कर दी है।

TEAM VOICE OF PANIPAT

Share: