वायस ऑफ पानीपत (कुलवन्त सिंह):- दिल्ली में मंगलवार को किसानों के ट्रैक्टर मार्च में बवाल जारी है। लाल किले के आसपास जमा हुए किसानों पर पुलिस ने लाठीचार्ज कर दिया। वहां से किसानों को निकालने की कोशिश की जा रही थी, तभी उन्होंने उपद्रव और तोड़फोड़ शुरू कर दी। पुलिस को उन्हें हटाने के लिए सख्ती बरतनी पड़ी। यहां से कुछ किसान तो बाहर निकल गए हैं, लेकिन कुछ का ट्रैक्टरों से आना जारी है। तनाव बढ़ता देख इलाके में इंटरनेट बंद कर दिया गया है, ताकि अफवाहें नहीं फैलें।

किसानों के हंगामे को देखते हुए सरकार ने सिंघु, टीकरी, गाजीपुर बॉर्डर के साथ ही मुकरबा चौक और नांगलोई इलाके में भी इंटरनेट बंद कर दिया है। ये सभी ऐसे पॉइंट हैं, जहां से किसान आंदोलन चल रहा है।  इससे पहले प्रदर्शनकारियों ने लाल किले पर पहुंच कर खालसा पंथ और किसान संगठनों के झंडे फहरा दिए। किसानों का एक जत्था इंडिया गेट की तरफ भी बढ़ने लगा। उधर, ITO के पास ट्रैक्टर पलटने से एक किसान की मौत हो गई।

ITO पर पुलिस ने किसानों पर लाठीचार्ज कर दिया तो किसानों ने पुलिस पर पथराव कर दिया। झड़प में कई किसान और पुलिसकर्मी घायल हुए हैं। किसानों ने ट्रैक्टर दौड़ा दिए, तो पुलिस को पीछे हटना पड़ा। पुलिसकर्मी भागकर आस-पास की इमारतों में घुस गए और वहां से किसानों पर आंसू गैस छोड़ी।

ITO पर हंगामा, मेट्रो स्टेशन बंद

हंगामे को देख ITO मेट्रो स्टेशन को बंद कर दिया गया। इसके साथ ही ग्रे लाइन रूट वाले सभी मेट्रो स्टेशन भी बंद कर दिए गए हैं। नांगलोई में किसानों को रोकने के लिए पुलिस सड़क पर बैठ गई। इनमें महिला पुलिसकर्मी भी शामिल हैं। पुलिस ने लाठीचार्ज भी किया।

TEAM VOICE OF PANIPAT

Share: