वायस ऑफ पानीपत (देवेंद्र शर्मा)

रेलवे रोड स्थित ताऊ देवी लाल काम्प्लेक्स के निगम कार्यालय में कार्यरत दो आउट सोर्स कर्मचारियों को निगम आयुक्त ने सस्पेंड कर दिया है। क्योंकि मिली जानकारी अनुसार दोनों कर्मचारी काम में लापरवाही बरतते थे। जिसके बाद दोनों कर्मचारियों आयुक्त के पास सिफारिशों और माफी का जुगाड़ लगाने में जुटे रहे, लेकिन आयुक्त ने साफतौर पर दोनों कर्मचारियों को दोबारा काम पर लेने से इंकार कर दिया। जब इस बारे में आयुक्त से बात की गई तो उन्होंने कहा कि दोनों कर्मचारियों की कई बार शिकायतें उनके पास आती रहती थीं, अबकी बार फिर से दोनों कर्मचारियों को काम में कोताही बरतते हुए पाया गया जिसके बाद उन्हें नौकरी से निकाल दिया गया है।

बता दें कि निगम में काम करने वाले ये दोनों कर्मचारी मैसेर्ज कथूरिया मैन पॉवर सिक्योरिटी सर्विसिज के माध्यम से लगे हुए थे। इनमें से क्लर्क की पोस्ट पर काम करने वाले संदीप शर्मा की शिकायत मिली थी कि वह टेंडरों की फाइलों के साथ छेड़छाड़ करता था। संदीप पर कई बार फाइलों को इधर-उधर करने के साथ फाइल गुम करने तक का आरोप साबित हुए। इसके बाद निगम आयुक्त ने तुरंत प्रभाव से संदीप शर्मा को टर्मिनेट कर दिया है।

वहीं दूसरा कर्मचारी इसी कंपनी का क्लर्क कमलकांत है। कमलकांत पर बिना कार्यालय में सूचना दिए छुट्टी करने का आरोप मिला। कमलकांत बिना किसी वरिष्ठ अधिकारी को सूचित किए कार्यालय में ताला लगाकर बाहर घूमने चला गया। स्वयं आयुक्त को किसी जरूरी काम के बाद भी उनका दो तीन घंटे तक इंतजार करना पड़ा। कमलकांत के खिलाफ ऐसी शिकायतें पहले कई बार मिल चुकी थी। जिस पर आयुक्त ने दोनों कर्मचारियों को पहले चेतावनी भी दी थी। लेकिन बार-बार ऐसा कब तक बर्दाश्त किया जा सकता है।जिसके चलते बाद एक बार फिर से काम में लापरवाही बरतने पर दोनों को आयुक्त ने टर्मिनेट कर नौकरी से निकाल दिया है।

TEAM VOICE OF PANIPAT…

Share: