Breaking News

धोनी के समर्थन में BCCI और खेल जगत, ICC को लिखी चिट्ठी

वायस ऑफ पानीपत (देवेंद्र शर्मा)
टीम इंडिया के पूर्व कप्तान और विकेटकीपर बल्लेबाज महेंद्र सिंह धोनी को आईसीसी ने बड़ा झटका दिया है. आईसीसी ने धोनी को अपने दस्ताने से ‘बलिदान बैज’ का निशान हटाने को कहा है. धोनी के दस्तानों पर आईसीसी की आपत्ति पर बीसीसीआई से लेकर खेल जगत और तमाम फैंस माही के समर्थन में उतर गए हैं. वर्ल्ड कप में दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ मैच में धोनी ने जो दस्ताने पहने थे, उन पर सेना का बलिदान बैज बना हुआ था. इस पर आईसीसी ने बीसीसीआई से अपील की है कि वह धोनी को दस्तानों से लोगो हटाने को कहे.


बीसीसीआई के COA चीफ विनोद राय ने कहा, ‘हम अपने खिलाड़ियों के साथ खड़े हैं. राय ने कहा कि उनके दस्ताने पर जो निशान है, वह किसी धर्म का प्रतीक नहीं है और न ही यह कमर्शियल है.’ विनोद राय ने कहा, ‘जहां तक पहले से इजाजत लेने की बात है तो हम इसके लिए आईसीसी से धोनी को दस्तानों के इस्तेमाल को लेकर अपील करेंगे
ICC के महाप्रबंधक ने कहा, ‘अगर बीसीसीआई एमएस धोनी के लिए ‘बालिदान’ प्रतीक चिन्ह का उपयोग करने की अनुमति मांगता है, तो अब तक मुझे नहीं पता. इस पर आईसीसी द्वारा विचार किया जाना चाहिए.’


यही नहीं इस मुद्दे पर देश की खेल हस्तियों ने धोनी का समर्थन किया है. पहलवान योगेश्वर दत्त ने कहा कि हमें धोनी पर गर्व है और उन्हें सेना के बलिदान बैज वाले दस्तानों को पहनना जारी रखना चाहिए. उनके अलावा पहलवान सुशील कुमार ने भी समर्थन किया है. पूर्व हॉकी खिलाड़ी सरदार सिंह, सुशील कुमार और ओलिंपिक पदक विजेता योगेश्वर दत्त ने धोनी के समर्थन में हैं. भारतीय खिलाड़ियों का कहना है कि बलिदान बैज पहनना सम्मान की बात है और आईसीसी को इस तरह की सख्ती नहीं दिखानी चाहिए.
क्या है बलिदान बैज?
पैराशूट रेजिमेंट के विशेष बलों के पास उनके अलग बैज होते हैं, जिन्हें ‘बलिदान’ के रूप में जाना जाता है. इस बैज में ‘बलिदान’ शब्द को देवनागरी लिपि में लिखा गया है. यह बैज चांदी की धातु से बना होता है, जिसमें ऊपर की तरफ लाल प्लास्टिक का आयत होता है. यह बैज केवल पैरा-कमांडो द्वारा पहना जाता है.
TEAM VOICE OF PANIPAT

leave a reply