शहर की सबसे बड़ी शिक्षण संस्था के चुनाव हुए रोचक

एसडी एजुकेशन सोसाइटी और इसकी सातों शिक्षण संस्थानों के चुनाव में मित्तल और गोयला गुट में चुनावी जंग तेज हो गई है। मित्तल गुट ने सभी 33 पदों पर अपने प्रत्याशी उतार दिए हैं। गोयला गुट ने नौ पदों पर उम्मीदवार नहीं उतारे हैं। एसडी इंस्टीट्यूट ऑफ मेडिकल साइंसेज के चारों पदों पर मित्तल गुट के पदाधिकारी निर्विरोध चुन लिये गए। उधर सोमवार को सोसाइटी के 100 सदस्यों पर जिला अदालत फैसला सुना सकती है। एसडी एजुकेशन सोसाइटी के कुंवार्षिक चुनाव के लिए रविवार को एसडीवीएम जूनियर विंग में नामांकन पत्र दाखिल किए गए। चुनाव अधिकारी अश्वनी कुमार और सुरेंद्र मित्तल ने नामाकंन की देखरेख की। मित्तल और गोयला गुट 12 बजे तक एक दूसरे के नामांकन दाखिल करने का इंतजार करते रहे। दोपहर बाद 12:30 बजे नामांकन करने पहुंचे। तीन बजे तक नामांकन दाखिल किए गए। सबसे पहले विष्णु गोयल ने एसडी सीसे स्कूल के मैनेजर के लिए पर्चा भरा।
*विजय अग्रवाल के सामने रामनिवास गुप्ता*
मित्तल गुट की तरफ से प्रधान पद के लिए डॉविजय अग्रवाल ने नामांकन किया है।वे अब तक सचिव रहे हैं।गोयला गुटकी तरफ से रामनिवास गुप्ता ने प्रधान और सतीश गोयल ने सचिव के लिए नामांकन भराप्रवीण गोयल ने एसडीपीजी कॉलेज के सचिव और अरुण गोयल ने एसडी विद्या मंदिर सीनियर विंग में सचिव के लिए नामांकन भरा है।
*13 को नैतिकता के आधार पर वोट का अधिकार नहीं*
गोयला गुट के वरिष्ठ सदस्य प्रवीण गोयल ने बताया कि सुप्रीम कोर्ट ने 13 सदस्यों का फैसला उनके हक़ में दिया है।इन सदस्यों 1 को नैतिकता के आधार पर चुनाव में भाग नहीं लेना चाहिए ।यह कोर्ट की अवमानना होगी चूक्रीनिचली अदालत ने उनके हक में फैसला दिया है।जिला रजिस्ट्रार को पत्र लिखकर सोसाइटी का चुनाव अपनी देखरेख में कराने की मांग करेंगे।गोयला गुट ने सीनियर लोगों को जूनियर पदों पर नामांकन कराकर उनकी अनदेखी की है।

leave a reply

Voice Of Panipat

Voice Of Panipat