Breaking News

हरियाणा में अब जनता सीधे चुनेगी नगर परिषद व पालिका के अध्यक्ष

वायस ऑफ पानीपत (देवेंद्र शर्मा)
हरियाणा में अब नगर निगमों के मेयर की तरह नगर परिषदों व नगरपालिकाओं के अध्यक्ष पद के चुनाव भी सीधे होंगे। इसके साथ ही राज्य सरकार ने फैसला किया है कि जिला परिषदों, नगर निगमों, नगर परिषदों व नगर पालिकाओं में विधानसभा की तर्ज पर सेशन (सत्र) आयोजित किए जाएंगे…


मुख्यमंत्री मनोहर लाल की अध्यक्षता में हुई मंत्री समूह की बैठक में यह दो अहम निर्णय लिए गए। राज्य सरकार पढ़ी लिखी पंचायतों के बाद नगर निगम के मेयर के सीधे वोटिंग के जरिये चुनाव कराने का सफल प्रयोग कर चुकी है। प्रदेश भर में सरकार के इस निर्णय को सराहा गया है। लोकसभा चुनाव में सभी 10 सीटें जीतने से उत्साहित भाजपा ने अब नगर परिषदों व नगर पालिकाओं के अध्यक्ष पद के चुनाव भी सीधे वोटिंग के जरिये कराने का निर्णय लिया है।
सामाजिक न्याय एवं अधिकारिता राज्य मंत्री कृष्ण कुमार बेदी के अनुसार हरियाणा में भाजपा सरकार ने पांच नगर निगमों यमुनानगर, करनाल, पानीपत, रोहतक और हिसार के चुनाव करवाए थे। प्रदेश में यह पहला मौका था जब निगमों में मेयर के लिए सीधे चुनाव हुए। इसी तरह से अब नगर परिषदों और नगर पालिकाओं में अध्यक्ष जनता चुनेगी। इससे अध्यक्ष पद के लिए होने वाली खरीद फरोख्त बंद होगी।


हरियाणा में इस समय 10 नगर निगम हैं। सोनीपत नगर परिषद को नगर निगम का दर्जा भी करीब चार साल पहले मौजूदा भाजपा सरकार ने दिया था। चार साल की अवधि में सोनीपत निगम के चुनाव कराने जरूरी थे, लेकिन वहां मतदाता सूचियों का पुनरीक्षण नहीं हो पाया, जिस कारण अब अध्यादेश लाकर सोनीपत नगर निगम के चुनाव के लिए छह माह का समय बढ़ाया जाएगा।
इसे विधानसभा के अगस्त में होने वाले सत्र में पेश किया जाएगा। कृष्ण कुमार बेदी ने बताया कि मंत्री समूह ने निर्णय लिया है कि अब राज्य की सभी 22 जिला परिषदों के अलावा नगर निगमों, नगर पालिकाओं व नगर परिषदों में हुआ करेंगे। हर तीसरे महीने यह सत्र बुलाए जाएंगे, जो तीन दिन के लिए चलेंगे। ये सत्र ठीक उसी तरह से चलेंगे, जिस तरह से विधानसभा के सत्र चलते हैं। सत्र में स्पीकर से जुड़े सवाल पर बेदी ने कहा कि वरिष्ठ पार्षदों में से ही किसी को सर्वसम्मति से स्पीकर चुना जाएगा।
TEAM VOICE OF PANIPAT

leave a reply