वायस ऑफ पानीपत (देवेंद्र शर्मा)

कोविड-19 संक्रमण के कारण केंद्र सरकार ने सभी शिक्षण संस्थान बंद करवा दिए थे। ऐसे में सरकारी स्कूलों ने निजी स्कूलों की तर्ज पर ऑनलाइन पढ़ाई कराना शुरू कर दिया। शुरू में बच्चाें ने इसमें दिलचस्पी नहीं दिखाई। इसके चलते शिक्षा विभाग ने टीवी पर प्रसारण के साथ-साथ वाॅट्सएप ग्रुप बनाकर विद्यार्थियों तक पाठ्यसामग्री, वीडियो और ऑडियो अध्यापकों के माध्यम से पहुंचवाना शुरू कर दिया। परिणाम स्वरूप बच्चों ने ई-लर्निंग में रूचि दिखाना शुरू कर दिया। परिणाम स्वरूप पानीपत ने ई-लर्निंग में प्रदेश में पहला स्थान प्राप्त कर लिया है।

इसको लेकर हरियाणा सरकार ने पिछले दिनों सर्वे कराया था। इसके आंकड़े बुधवार को जारी किए। इन आंकड़ों के अनुसार पानीपत ने 99 अंक प्राप्त कर प्रथम स्थान पर कब्जा कर लिया है। शिक्षा निदेशालय के निर्देशानुसार लॉकडाउन में स्कूलों के बंद रहने के कारण विद्यार्थियों की शिक्षा जारी रखने के लिए ऑनलाइन पढ़ाई करवाई जा रही है। इसके लिए अध्यापकों से लेकर जिला शिक्षा अधिकारी तक की जिम्मेदारी निर्धारित कर दी है।

इस क्रम में शिक्षा विभाग ने टीवी पर एजुसेट कार्यक्रम दिखाना शुरू कर दिया था। शिक्षकों ने वाॅट्सएसप पर ग्रुप बना लिए। बच्चों के साथ-साथ अभिभावकों को इससे जोड़ लिया था। वाॅट्सएप पर ही विद्यार्थियों तक पाठ्यसामग्री, वीडियो और बनाकर भेजना शुरू कर दिया था। शिक्षकों ने अभिभावकों से संपर्क कर बच्चों की पढ़ाई पर ध्यान देने के लिए प्रेरित करना शुरू कर दिया है।

TEAM VOICE OF PANIPAT

Share: