वायस ऑफ पानीपत (देवेंद्र शर्मा)

शहर में बंदरों का उत्पात जिस कद्र कायम है, उसने  शहरवासियों के साथ-साथ निगम कर्मचारियों को भी बंदरों ने परेशान कर रखा है। अब तो बंदर निगम कार्यालय में भी दस्तक देने पहुंच जाते हैं। जिससे निगम कर्मचारियों में हड़कंप मच जाता है। बीते दिन फिर से निगम कार्यालय में ऐसे ही बंदरों का आना हुआ, जिससे निगम में अफरातफरी मच गई। दूसरी तरफ निगम इस काम के लिए एक महीने बाद टेंडर, वर्क आर्डर और परमिशन की प्रक्रिया पूरी कर पाया है। जिसके बाद ठेकेदार को भी बंदर पकड़ने का काम शुरू करने के आदेश जारी कर दिए गए हैं। वहीं, निगम ने भी शहरवासियों को बंदरों से निजात दिलवाने के लिए एक हेल्पलाइन नंबर जारी किया है। इस पर सुबह 10 बजे से लेकर शाम 5 बजे तक कॉल करके बंदरों को पकड़वाने की शिकायत दी जा सकती है। यह नंबर 080-2642500 है, जो निगम कार्यालय का है।

इस नंबर पर कॉल करके दी गई शिकायत को निगम अधिकारी लिखित तौर या मौखिक तौर पर ठेकेदार को देंगे। जिसके बाद ठेकेदार शिकायत के आधार पर जानकारी अनुसार स्थान पर जाकर पिंजरा लगाएगा और बंदरों को पकड़ने का काम करेगा। फिर एक साथ दस, बीस या पचास बंदरों को पकड़कर कलेसर के जंगल में छोड़ा जाएगा। इसकी अनुमति भी निगम ले चुका है। जिसमें पहली बार में 1500 बंदरों को पकड़कर जंगल में छोड़ने की अनुमति मिली है।

बंदर पकड़ने वाले एजेंसी के ठेकेदार रईस खान को भी बंदर पकड़ने के आदेश जारी कर दिए गए हैं। जिस पर ठेकेदार दो दिन में अपनी तैयारियों के साथ शहर में काम शुरू कर देगा। जहां ज्यादा बंदरों की तादाद होगी, वहां सबसे पहले काम शुरू किया जाएगा। माना जा रहा है कि सोमवार से बंदर पकड़ने का काम पूरे रूटीन में आ जाएगा।

TEAM VOICE OF PANIPAT……

Share: