वायस ऑफ पानीपत (देवेंद्र शर्मा)
शादीशुदा महिलाएं अपने पति की लंबी आयु के लिए करवा चौथ का व्रत रखती हैं. इस साल करवाचौथ 17 अक्टूबर (गुरुवार) को पड़ रहा है..करवाचौथ का व्रत सिर्फ सुहागिन महिलाएं ही नहीं बल्कि कुंवारी लड़कियां भी रखती हैं. पर क्या बिना शादी के करवाचौथ का व्रत रखना सही है?

ज्योतिषों के अनुसार, कुंवारी लड़कियां भी करवाचौथ का व्रत रख सकती हैं. इससे करवामाता का आशीर्वाद ही मिलेगा, कोई नुकसान नहीं होगा…ज्यादातर कुंवारी लड़कियां अपने प्रेमी और मंगेतर के लिए व्रत करती हैं. पर अगर आपका कोई अभी किसी से कोई रिश्ता नहीं बना है तो भी आप अपने भावी पति का ख्याल कर व्रत रख सकती हैं.
अविवाहित लड़कियों को भी करवाचौथ व्रत का पालन सामान्य नियम के अनुसार ही करना होता है लेकिन पूजा करते समय इनके लिए कुछ नियम बदल जाते हैं.


अगर आप अपने प्रेमी या मंगेतर के लिए व्रत नहीं रख रहीं हैं तो निर्जल व्रत रखने की बजाय निराहार व्रत रहें…कुंवारी लड़कियां केवल करवा चौथ माता, भगवान शिव और माता गौरी की पूजा करें और उनकी कथा सुनें…कुंवारी कन्याओं के लिए नियम है कि वे चांद नहीं बल्कि तारा देखकर अपना व्रत खोलें…कुंवारी लड़कियां बिना चलनी के तारों को जल से अर्घ्य देकर पूजा करें और व्रत खोलें…चांद को देखकर व्रत पूरा करने का नियम केवल सुहागिन स्त्रियों के लिए है.
TEAM VOICE OF PANIPAT

Share: