वायस ऑफ पानीपत (कुलवन्त सिंह)
श्रीकांत माधव वैद्य ने फॉर्च्न 500 की ग्लोबल सूची में भारत के सर्वोच्च रैंक वाले सार्वजनिक क्षेत्र के उद्यम इंडियनऑयल में निदेशक (रिफ़ाइनरीज़) के पद का कार्यभार संभाल लिया है। वे चेन्नई पेट्रोलियम कॉर्पोरेशन लिमिटेड (सीपीसीएल) और महाराष्ट्र में बन रही दुनिया की सबसे बड़ी आधारभूत रिफाइनरी परियोजना (60 एमएमटीपीए वेस्ट कोस्ट रिफाइनरी पेट्रोकेमिकल्स परियोजना) के निदेशक मंडल में भी शामिल हैं।
वैद्य इंडियनऑयल की नौ रिफ़ाइनरियों और पेट्रोरसायन संयंत्रों के कारोबार और प्रचालन का नेतृत्व कर रहे हैं। एक सशक्त रिफ़ाइनरीज़ प्रभाग के बल पर ही इंडियनऑयल (समूह कंपनियों सहित) देश का शीर्ष रिफ़ाइनर बना हुआ है जिसकी ग्रुप रिफ़ाइनिंग क्षमता 80.7 मिलियन टन प्रतिवर्ष (161.4 मिलियन बैरल प्रतिदिन) है।
राष्ट्रीय प्रौद्योगिकी संस्थान, राउरकेला से केमिकल इंजीनियरिंग की डिग्री प्राप्त एस एम वैद्य को रिफ़ाइनिंग और पेट्रोरसायन प्रचालन में 33 साल का व्यापक अनुभव है। वैद्य भारत के सबसे बड़े क्रैकर प्लांट – पानीपत नेफ्था क्रैकर कॉम्प्लेक्स की स्थापना के समय से लेकर एक दशक से भी अधिक समय तक इससे जुड़े रहे हैं- जो आईओसी के पेट्रोकेमिकल कारोबार का एक प्रमुख कारक है। वे भारत के तेल और गैस उद्योग के उन चुने हुए टेक्नोक्रेट में से एक हैं जो रिफ़ाइनरी-पेट्रोकेमिकल एकीकरण के सभी पहलुओं में पारंगत हैं और यह आने वाले समय में तेल और गैस उद्योग की स्थिरता के लिए आवश्यक है।


इस पदोन्नति से पूर्व वैद्य रिफ़ाइनरीज़ प्रभाग के प्रचालन विभाग का नेतृत्व कर रहे थे। इस दौरान बेहतर सकल रिफ़ाइनिंग मार्जिन, उत्पादों की निर्बाध आपूर्ति और पर्यावरण अनुकूल कारोबार प्रचालन सुनिश्चित हुआ। उनके कार्यकाल में रिफ़ाइनरीज़ प्रभाग ने सभी महत्वपूर्ण भौतिक पैरामीटरों पर रिकॉर्ड कार्य निष्पादन दर्ज किया। साथ ही उन्होंने एनसीआर में बीएस-VI ग्रेड ऑटो ईंधन की समय पर आपूर्ति सुनिश्चित करने में भी अग्रणी भूमिका निभाई। रिफ़ाइनरियों में बायोफ्यूल तथा इथेनॉल ब्लेंडेड फ्यूल से संबंधित परियोजनाओं के साथ हरित ऊर्जा विकल्पों को विकसित करने में भी उनका योगदान रहा है। एस एम वैद्य इंडियन ऑयल की 8 मिलियन टन प्रति वर्ष क्षमता वाली मथुरा रिफाइनरी का भी नेतृत्व कर चुके हैं। उनके सक्रिय कार्यकाल के दौरान रिफ़ाइनरी की स्थिरता और लाभप्रदता के लिए नई पहल की गईं हैं।
सीएसआर, सीसी एवं हिन्दी के वरिष्ठ प्रबन्धक राकेश रौशन ने कहा कि अपने सशक्त तकनीकी कौशल, कारोबारी समझ तथा कर्मचारी-केंद्रित नेतृत्व शैली के साथ वैद्य टेक्नोलॉजी के बेहतर इस्तेमाल, अभिनव व पर्यावरण अनुकूल समाधान से इंडियनऑयल को एक प्रमुख एकीकृत ऊर्जा कंपनी के रूप में परिवर्तित करने का सशक्त विज़न रखते हैं।
TEAM VOICE OF PANIPAT

Share: