वायस ऑफ पानीपत (देवेंद्र शर्मा)
स्कूटी की कीमत सिर्फ 15 हजार रुपए रह गई और पुलिस ने चालान काट दिया 23 हजार रुपए का। वहीं, एक प्लसर चालक को पुलिस ने 22 हजार रुपए का चालन थमा दिया। मोटर वाहन (संशोधन) बिल-2019 लागू होने के बाद हरियाणा के गुरुग्राम और बहादुरगढ़ में कटे इन चालान की कॉपी सोशल मीडिया पर वायरल हो रही है।


दिल्ली की गीता कॉलोनी में रहने वाले दिनेश मदान का कहना है कि सोमवार को वह गुड़गांव गए थे। डिस्ट्रिक कोर्ट के सामने उन्होंने हेलमेट उतार दिया। वहां खड़े पुलिसकर्मी ने स्कूटी के कागज दिखाने को कहा। उनके पास कागज नहीं थे, तो पुलिसकर्मी ने लाइसेंस, आरसी, इंश्योरेंस, प्रदूषण और हेलमेट का चालान कर दिया। इसका कुल टोटल 23 हजार रुपए हुआ। दिनेश ने पुलिसकर्मी को कहा कि स्कूटी की कीमत तो महज 15 हजार रुपए है। इसके बाद पुलिसकर्मी ने स्कूटी को सीज कर दिया।


दूसरा मामला बहादुरगढ़ का है। जहां एक पल्सर बाइक को रोका तो उसके पास भी न लाइसेंस था, न आरसी थी, न ही इंश्योरेंस था और न ही प्रदूषण की पर्ची। पुलिस ने 22 हजार रुपए का चालान बना दिया और फिर गाड़ी सीज कर दी। इसी तरह का मामला कैथल जिले का भी है। यहां एक स्कूटी चालक का लाइसेंस, आरसी, मोबाइल फोन इस्तेमाल करने और हेलमेट न पहनने पर 16 हजार रुपए का चालान कर दिया गया।
TEAM VOICE OF PANIPAT

Share: