वायस आफॅ पानीपत (कुलवन्त सिंह) :- हरियाणा विधानसभा का मानसून सत्र 26 अगस्त से शुरू होगा। हालांकि सत्र की अवधि को लेकर अभी भी असमंजस बरकरार है। डिप्टी स्पीकर रणबीर गंगवा ने दिया एक दिन में ही सत्र खत्म करने का संकेत। सत्तारूढ़ भाजपा-जजपा के साथ ही कांग्रेस के कई विधायकों ने महामारी का हवाला देते हुए सत्र को सिर्फ एक दिन चलाने की मांग की है। मानसून सत्र बुधवार को निर्धारित समय पर शुरू होगा, जबकि सत्र की अवधि को लेकर फैसला बिजनेस एडवाइजरी कमेटी की बैठक में लिया जाएगा। सत्र में दस अध्यादेशों को बिल के रूप में पारित किया जाएगा, जबकि तीन नए अध्यादेश सदन पटल पर रखे जाएंगे। चंडीगढ़ स्थित हरियाणा निवास में विधानसभा के मानसून सत्र की तैयारियों को लेकर विधानसभा के उपाध्यक्ष रणबीर गंगवा पत्रकारों से मुखातिब हुए। 

गंगवा ने कहा कि हरियाणा विधानसभा के मानसून सत्र के लिए मिले 30 ध्यानाकर्षण प्रस्तावों में से सिर्फ दो हुए मंजूर हुए हैं। दोनों ही ध्यानाकर्षण प्रस्ताव इनेलो विधायक अभय चौटाला के हैं, जिनमें से एक कोरोना काल के दौरान रजिस्ट्री घोटाला और दूसरा शिशु मृत्यु दर से जुड़ा है। विधानसभा सचिवालय में विधायकों के कुल 187 सवाल मिले थे, जिनमें से ड्रा के जरिये 40 सवालों का चयन किया गया है। इन पर प्रश्नकाल में चर्चा होगी। सदन एक दिन में ही सिमटने की स्थिति में सभी विधायकों को लिखित में जवाब भेजे जाएंगे। नौकरी से हटाए गए 1983 पीटीआइ पर कांग्रेस ने प्राइवेट मेंबर बिल दिया है, जिस पर फैसला अभी बाकी है।हरियाणा विधानसभा के सभी सदस्यों की कोरोना रिपोर्ट आ गई है। कुल 90 विधायकों में छह विधायक पॉजिटिव मिले हैं। मुख्यमंत्री मनोहर लाल, विधानसभा अध्यक्ष ज्ञानचंद गुप्ता, कैबिनेट मंत्री मूलचंद शर्मा, रामकुमार कश्यप, असीम गोयल और लक्ष्मण नापा की रिपोर्ट पॉजिटिव मिली है, जबकि बाकी 84 विधायकों की रिपोर्ट निगेटिव है। वहीं, हरियाणा विधानसभा के 365 कर्मचारियों में से छह की कोरोना रिपोर्ट पॉजिटिव मिली है। दो बार विधानसभा को सैनिटाइज कराने के बाद अब देर शाम को फिर पूरा परिसर सैनिटाइज किया जाएगा।

TEAM VOICE OF PANIPAT

Share: