वायस ऑफ पानीपत (देवेंद्र शर्मा)

लॉकडाउन में पत्नी मायके से नहीं लौटी..इससे खफा न्यू मुखीजा कॉलोनी के एक युवक ने पत्नी को कॉल कर रहा कि मैं फंदा लगाकर इस दुनिया से जा रहा हूं..आप अब आराम से रहना..इसके बाद फंदे पर झूल गया…

न्यू मुखीजा में सुभाष के घर पर किराये पर रहने वाले मोहन पटेल ने बताया कि बिहार के जिला पश्चिमी चंपारण के साध खौत हवा गांव के 20 वर्षीय संजय ने करीब 14 महीने पहले मीरा से प्रेम विवाह किया था। नाराज स्वजनों ने संजय को घर से बाहर निकाल दिया था। संजय मजदूरी करता था और शराब पीकर पत्नी को पीटता था। इससे तंग आकर एक महीना पहले मीरा मायके चली गई थी। इसके बाद से संजय गुमसुम रहता था। दोपहर को संजय ने कॉल कर पत्नी मीरा के साथ झगड़ा किया और पड़ोसी से 12:05 बजे समय पूछा और दरवाजा बंद कर लिया। मीरा ने पड़ोसन काजल को कॉल कर बताया कि संजय ने कहा कि वह फंदा लगा रहा है। कमरे में जाकर देखो। काजल को दरवाजा अंदर से बंद मिला। इसके बाद पड़ोसी ने चारपाई पर चढ़कर रोशनदान से देखा तो संजय ने पंखे के हुक से बिजली के तार से फंदा लगा रखा था।

आठ मरला चौकी प्रबारी राजबीर सिंह ने बताया कि संजय के पिता श्याम बदन से कॉल कर घटना की जानकारी दी। श्याम ने बताया कि लॉकडाउन की वजह से पुलिस उन्हें घर से निकलने नहीं दे रही। डंडे मारती है। अंतिम संस्कार करवाने के उसके पास पैसे भी नहीं हैं। इसलिए आप ही संस्कार करवा दें। सामान्य अस्पताल में पोस्टमार्टम करवाकर जनसेवा दल के सहयोग से असंध रोड शिवपुरी में संजय का अंतिम संस्कार करा दिया।

TEAM VOICE OF PANIPAT

Share: