नाबालिग पत्नी को उसके ही पति ने 70 हज़ार में बेचा, पीड़िता को मिला न्याय

वायस ऑफ़ पानीपत ( देवेंदर शर्मा)

पानीपत – मानव तस्करी व यौन शोषण का शिकार हुई एक नाबालिग लड़की को कोर्ट से गुरुवार को न्याय मिल गया। करीब दो साल पहले पीड़ित लड़की को उसके ही पति ने प्रेमिका के चक्कर में बिचौलिए ईदू के जरिए 70 हजार रुपए में सींक गांव के अनिल पुत्र ईश्वर को बेच दिया था। 6 माह तक बंधक बनाकर अनिल ने उसके साथ रेप किया। बाद में किशोरी को मुक्त कराया गया था

अतिरिक्त जिला एवं सत्र न्यायाधीश शशिबाला चौहान ने आरोपी अनिल और बिचौलिए ईदू को 10-10 साल के कारावास की सजा सुनाई है। अनिल पर 65 हजार और ईदू पर 45 हजार का जुर्माना लगाया गया। झारखंड की आदिवासी लड़की की शादी 14 साल की उम्र में पंकज (बदला हुआ नाम) निवासी गोड़ा, झारखंड से हुई थी। दो साल तक लड़की साथ रही। पंकज के दूसरी महिला से संबंध थे। इसलिए उसने पत्नी का गर्भपात कराया। वह पत्नी को बेचना चाहता था। अनिल खेतीबाड़ी करता था। उसका बड़ा भाई पुलिस में है। तब वह अंबाला में परिवार सहित रहता था। अनिल अविवाहिता था और उसकी मां की मौत हो चुकी थी, इसलिए खाना बनाने व घर के काम में दिक्कत आती थी।

2016 में वह सोनीपत के बख्तावरपुर में बुआ के घर गया। वहां पड़ोसी ईदू पुत्र अली मोहम्मद के साथ जान पहचान हुई और शादी की बात हुई। ईदू की ससुराल झारखंड में है। 2016 में ससुराल से लौटते समय ईदू की पंकज से मुलाकात हुई। तब पंकज ने अपनी पत्नी को बहन बता शादी कराने के लिए हां कर दी। इसके एवज में रुपए मांगे। जून 2016 में पंकज पत्नी को लेकर मुरथल बस स्टैंड पर पहुंचा। ईदू और अनिल भी वहां पहुंचे। 70 हजार रुपए लेकर पंकज ने लड़की को अनिल के हवाले कर दिया था।

घर में बंधक बनाकर किया था रेप 

अनिल लड़की को अपने घर सींक में ले गया। उसको 70 हजार रुपए में खरीदने की बात भी बता दी। दो सप्ताह बाद ही आरोपी अनिल ने उसके साथ जबरन रेप किया और उसको पत्नी की तरह रखने लगा। बाद में बंधक बनाकर वह बार-बार रेप करता रहा। काम के बदले न तो रुपए दिए और न ही झारखंड जाने दिया। घर के सदस्य उस पर निगरानी रखते थे। लड़की को अपने भाई का नंबर याद था। एक दिन चोरी छुपे उसने भाई को फोन करके जानकारी दी। भाई ने दिल्ली की एक एनजीओ का नंबर दिया। इसके बाद 21 जनवरी को प्रशासन ने सींक में रेस्क्यू करके लड़की को मुक्त कराया था। परिजनों ने भारी हंगामा किया था। अब इस केस में सजा हो गई।

leave a reply

Voice Of Panipat

Voice Of Panipat