वॉयस ऑफ़ पानीपत कुलवन्त सिंह :- सीएम मनोहरलाल ने सोमवार सुबह करनाल नई अनाज मंडी का निरीक्षण किया। मंडी में आ रही परेशानी को लेकर किसानों ने सीएम के सामने नाराजगी जाहिर की। किसानों ने कहा कि मंडी में पोर्टल चल नहीं रहा है और गेट पास मिलते नहीं हैं। कई दिन मंडी में धान बिकने का इंतजार करना पड़ता है।मैसेज सिस्टम बंद करवा दो। सीएम ने तल्ख लहजे में जवाब दिया कि मैसेज सिस्टम बंद नहीं होगा। यहां मेला नहीं लगाना है। व्यवस्था बनाए रखने के लिए शेड्यूल के अनुसार जीरी लाएं। फिर भी 25 प्रतिशत किसान बगैर शेड्यूल के भी आ सकते हैं।

सीएम ने बड़ौता निवासी किसान रणबीर की धान की नमी तीन बार चेक करवाई, जिसमें 19 प्रतिशत नमी पाई गई। उस ढेरी की अपने सामने बोली करवाई। सरकारी बोली 1888 रुपए से शुरू हुई। बोली के समय मिलर ने 1890 रुपए प्रति क्विंटल का रेट लगाया, जिससे किसान को 2 रुपए प्रति क्विंटल का मुनाफा हुआ। दूसरी ढेरी भी इसी किसान की थी, जिसमें नमी पहली बार 20 प्रतिशत, दूसरी बार 19.5 प्रतिशत और 20.5 प्रतिशत पाई गई। इस पर सीएम ने किसान को सलाह दी कि धान को एक दिन और सूखा लें, अच्छा रेट मिलेगा।सीएम ने पोर्टल बंद होने की समस्या को गंभीर समझते हुए इससे दो दिन में सुधार करवाने का भरोसा दिया। यदि पोर्टल न चले तो मेन्युअल गेट पास काट दिए जाए। बाद में इसे ऑनलाइन कर दें।मुख्यमंत्री ने कहा कि किसानों को कोई दिक्कत नहीं आने दी जाएगी, धान का एक-एक दाना सरकार खरीदेगी।तीन कानूनों के परिणाम आने वाले समय में बेहतर होंगे और विरोध करने वालों को अपने आप जवाब मिल जाएगा। विरोध करने वालों ने पिछले 60 सालों से किसानों के हित की नहीं सोची। किसानों ने कहा कि सीएम साहब मंडी में जिस प्रकार से बोली आप ने करवाई है इस तरह से जिला प्रशासन बोली नहीं करवाता है।

TEAM VOICE OF PANIPAT

Share: