वायस आफॅ पानीपत (कुलवन्त सिंह)- हरियाणा में मंत्रियों और अफसरशाही के बीच खींचतान बढ़ती जा रही है। प्रदेश के सामाजिक न्याय एवं अधिकारिता राज्य मंत्री ओमप्रकाश यादव तथा आइपीएस अधिकारी सुलोचना गजराज के बीच हुए ताजा विवाद के बाद इस खींचतान को अधिक बल मिला है। केंद्रीय राज्य मंत्री राव इंद्रजीत से लेकर मनोहर सरकार के ज्यादातर मंत्री जहां ओमप्रकाश यादव के साथ हैं, वहीं आइपीएस अधिकारी सुलोचना गजराज को भी भितरखाने अपनी लाबी का पूरा समर्थन हासिल हो रहा है।

राज्य मंत्री ओमप्रकाश यादव ने दो दिन पहले हरियाणा के गृह एवं स्वास्थ्य मंत्री अनिल विज से मुलाकात कर पूरे मामले की उन्हें जानकारी दी है। ओमप्रकाश यादव का कुछ दिन पहले एक आडियो वायरल हुआ था, जिसमें वह नारनौल की एसपी सुलोचना गजराज की कार्य प्रणाली पर सवाल उठाते हुए उनके प्रति कठोर टिप्पणियां कर रहे हैं। कोसली के विधायक लक्ष्मण यादव भी रेवाड़ी की एसपी नाजनीन भसीन से दुखी थे।

राज्य मंत्री का आडियो वायरल होने के कुछ घंटों बाद प्रदेश सरकार ने हालांकि दोनों एसपी के तबादले कर दिए, लेकिन सुलोचना गजराज ने चार्ज छोड़ने से पहले अज्ञात व्यक्ति के खिलाफ अपने विरुद्ध अपमानजनक टिप्पणियां करने का आरोप लगाते हुए एफआइआर दर्ज करा दी है।राज्य मंत्री का आडियो वायरल होने के कुछ घंटों बाद प्रदेश सरकार ने हालांकि दोनों एसपी के तबादले कर दिए, लेकिन सुलोचना गजराज ने चार्ज छोड़ने से पहले अज्ञात व्यक्ति के खिलाफ अपने विरुद्ध अपमानजनक टिप्पणियां करने का आरोप लगाते हुए एफआइआर दर्ज करा दी है।मुख्यमंत्री मनोहर लाल की कैबिनेट के आधा दर्जन से ज्यादा मंत्रियों ने ओमप्रकाश यादव का समर्थन करते हुए कहा है कि अधिकारियों द्वारा बात नहीं सुने जाने की समस्या नई नहीं है। कई मंत्री, सांसद और विधायक इससे प्रताड़ित तथा पीड़ित हैं। यादव ने सभी मंत्रियों की पीड़ा को उजागर किया है। ऐसे में आइपीएस के विरुद्ध कार्रवाई की जानी चाहिए।

TEAM VOICE OF PANIPAT

Share: