श्री कांशीगिरी मंदिर में रविवार को श्री सनातन धर्म संगठन का चुनाव सर्व सम्मति से संपन्न हुआ। इसकी चयनित कमेटी में आरएन रावल, किशन गोपाल सेठी, अशाेक नारंग, सतनाम मिगलानी, तरूण गांधी, डॉ रमेश चुघ, मदन डुडेजा, विनोद लिखा व रमेश राजपाल को शामिल किया गया। रमेश राजपाल के शामिल नहीं होने पर विपिन चुघ को शामिल किया गया।

प्रधानी के खुुद भी मजबूत दावेदार वेद शर्मा ने रखा कृष्ण का नाम
श्री सनातन धर्म संगठन में 20 साल कैशियर, 2 साल चेयरमैन व प्रधानी के सबसे मजबूत दावेदार माने जाने वाले वेद शर्मा ने कृष्ण रेवड़ी का नाम प्रस्तावित किया। चयनित कमेटी में समेत संगठन के अन्य लोगों ने भी इसका समर्थन किया।

योगेश्वर गर्ग ने प्रस्तावित किया सुभाष गुलाटी का नाम

सुभाष गुलाटी को प्रधान बनाने के लिए उनका नाम श्री सनातन धर्म मंदिर मॉडल टाउन से जुड़े योगेश्वर गर्ग ने प्रस्तावित किया। इसका ज्यादातर मेंबरों ने समर्थन भी किया। इन दोनों ही दावेदारों के अलावा किसी अन्य का नाम प्रस्तावित नहीं किया गया। चयनित कमेटी ने सुभाष गुलाटी को चेयरमैन का पद दिया। जिसे उन्होंने स्वीकार कर लिया। सर्व सम्मति से प्रधान व चेयरमैन चुने जाने की प्रक्रिया की अध्यक्षता श्री सनातन धर्म मंदिर मॉडल टाउन प्रधान एवं भाजपा नेता तरूण गांधी ने की। इस अवसर पर ब्रह्मऋषि, भीम सचदेवा, सुनील थम्मन, युद्धवीर रेवड़ी, विपिन चुघ, अजय नंदा, संजय अग्रवाल, रमेश माटा, टेक चंद आर्य व सूरज दुरेजा मौजूद रहे।सुभाष गुलाटी ने बताया कि उन्होंने हुडा विभाग में 31 साल नौकरी की। अंतिम स्टेशन पानीपत रहा। यहां से अधीक्षक पद से रिटायर्ड होकर समाज सेवा ही परमोधर्म का संदेश देते हुए खुद भी समाज सेवा में लग गए। अब श्री सनातन धर्म संगठन में 11 साल से उप प्रधान हैं। शिव धाम सोसायटी नजदीक लघु सचिवालय में प्रधान, श्री राम दशहरा कमेटी बरसत रोड में 11 साल से महासचिव, प्राचीन शिव मंदिर राम नगर के प्रधान, मुल्तान सावन जोत सभा में संयोजक पद की जिम्मेदारी संभाल रहे हैं।

रेवड़ी परिवार व समर्थकों ने तरुण गांधी को घेरा

चुनाव प्रक्रिया के दौरान सुभाष गुलाटी का नाम प्रधानी के लिए प्रस्तावित होने के बाद रेवड़ी परिवार को लगा कि चयनित कमेटी मेंबर तरूण गांधी सुभाष गुलाटी का पक्ष ले रहे हैं। इसी सोच के साथ रेवड़ी परिवार के शक्ति सिंह रेवड़ी व युद्धवीर रेवड़ी समेत अन्य ने गांधी को घेर लिया।

प्रधान चुनने के बाद आए हरीश शर्मा ने बताया विरोध

प्रधान चुनने के बाद पहुंचे पूर्व पार्षद एवं सावन जोत सभा प्रधान हरीश शर्मा ने विरोध जताया। उन्होंने संगठन के कार्यकर्ताओं पर आरोप लगाया कि उन्हें चुनाव की सूचना नहीं दी गई। जबकि वे संगठन में हर प्रकार से सहयोग करते हैं। इसके बाद संगठन मेंबरों ने हरीश शर्मा को शांति किया।

प्रधानी के ये 3 दावेदार खुद ही हट गए पीछे

संगठन में प्रधान में सबसे मजबूत दावोदारों में शामिल पूर्व प्रधान सूरज पहलवान, पूर्व उप प्रधान मदन डुडेजा व पूर्व चेयरमैन वेद शर्मा खुद ही प्रधानी लेने से पीछे हट गए। वेद शर्मा ने बताया कि उनके पास 6 दिन से संदेश लेकर संगठन के वरिष्ठ मेंबर आ रहे थे कि इस बार कृष्ण रेवड़ी को आशीर्वाद देना है, इसलिए वे पीछे हट गए।

दोनों दावेदारों को अलग कमरे में ले गए

सलेक्शन कमेटी मेंबर प्रधानी के दावेदार कृष्ण रेवड़ी व सुभाष गुलाटी को एक अलग कमरे में ले गए। वहीं पर दोनों को समझाया। बाद में दोनों कमरे में से ही मालाएं पहनाकर लाए और प्रधान कृष्ण रेवड़ी व चेयरमैन सुभाषी गुलाटी को बनने की घोषणा कर दी। इसका सभी ने समर्थन किया। मुल्तान सावन जोत सभा प्रधान विपिन चुघ बोले कि संगठन को सभी एक साथ मिलकर आगे लेकर जाएंगे।

अब तक यह रहे प्रधान

अब तक प्रधान पद की जिम्मेदारी गुर प्रसाद बंसल, डॉ. सूरज प्रकाश, किशन लखीना, मास्टर राम प्रकाश चंद बजाज, नीति सेन भाटिया, कपूर चंद नागपाल, प्रमोद खेड़ा, प्यारे लाल चोपड़ा व सूरज पहलवान ने संभाली है। सबसे लंबे समय सूरज पहलवान 11 साल में 6 बार लगातार प्रधान बने हैं

वायस ऑफ पानीपत (कुलवन्त सिंह):-

Share: