वॉयस ऑफ़ पानीपत कुलवन्त सिंह :-उग्राखेड़ी में पति ने ‘वो’ के चक्कर में पत्नी को जिंदा आग के हवाले कर दिया। उसके कुर्ते में आग लगा दी। रेशम के सूट शरीर से चिपक गया। जमीन पर लेटकर पीड़िता ने खुद ही आग बुझाई। उसके बाद बेहोश हो गई। आधे घंटे बाद होश आया। भाई ने बहन को सिविल अस्पताल में भर्ती कराया। 5 साल पहले पीड़िता की शादी हुई थी।उग्राखेड़ी की रहने वाली पीड़िता ने थाना चांदनी बाग में शिकायत दी। बताया कि उसकी शादी क्षेत्र के ही रहने वाले बिंदू के साथ हुई थी। ससुर सेना से रिटायर्ड है। पति निजी स्कूल की बस चलाते हैं। पति के अपने बड़े भाई की पत्नी से संबंध थे। वह उसके सामने ही गलत काम करते थे। वह अभी तक निसंतान थी। इस कारण ससुराली ज्यादा परेशान करते थे।

पीड़िता ने बताया कि ससुरालियों ने दो साल पहले अधमरा कर दिया था और घर से निकाल दिया था। तब ससुरालियों ने पंचायत में माफी मांगी थी। भाई ने उसे ससुरालियों से छिपा कर एक छोटा मोबाइल दिया था। सोमवार शाम घर में थी और पति आ गया। मारपीट करने लगा और कुर्ते में आग लगा दी। कुर्ता शरीर पर चिपकता चला गया। वह जलन से तड़पने लगी। जमीन पर लेट कर कुर्ते में लगी आग को बुझाने की कोशिश करने लगी। जल्द ही आग तो बुझा दी, लेकिन पेट और उसके ऊपर का हिस्सा गंभीर रूप से झुलस गया। 30 मिनट बाद होश आने पर उसने छिपाकर रखे मोबाइल से भाई को कॉल किया।एसएचओ चांदनी बाग हरविंदर का कहना है कि पति, ससुर, जेठ, जेठानी, अन्य महिला सहित 7 लोगों के खिलाफ केस दर्ज कर लिया है।

TEAM VOICE OF PANIPAT

Share: