वायस आफॅ पानीपत (कुलवन्त सिंह)- ऑल इंडिया काउंसिल ऑफ टेक्निकल एजुकेशन के तहत संचालित विश्वकर्मा अवार्ड के लिए गीता संस्थान का चयन किया गया। यह जानकारी देते हुए संस्थान के वाईस चेयरमैन अंकुश बंसल ने बताया की विद्यार्थियों गीता संस्थान ने कोविड-19 को लेकर आसपास के इलाकों में जागरूकता अभियान चलाया, टेली कम्यूनिकेशन और अन्य तकनीकों से की लगातार काउन्सलिंग की, कोरोना के खिलाफ लड़ाई में संस्थान की ओर से मास्क, सैनिटाइजर आदि का वितरण किया। इसी के साथ- साथ कोविड काल में  खाद्य सामग्री, दवा, कपड़े व पाठ्य सामग्री समेत अन्य जरूरी वस्तुओं का वितरण संस्थान ने आसपास के क्षेत्र में किया गया।

संस्थान द्वारा विद्यार्थियों के ऑनलाइन स्टडी के लिए लर्निंग मैनेजमेंट सिस्टम शुरू किया गया जिसके जरिये सभी अध्यापक अपने लेक्चर को अपलोड कर सकते है या ऑनलाइन पढाई भी करवा सकता है। गीता संस्थान पहला ऐसा संस्थान है जिसने लर्निंग मैनेजमेंट सिस्टम विकसित किया है जिसके जरिये पहले से रिकॉर्ड किये लेक्चर या लाईव लेक्चर लिए जा सकते है। इसमें विद्यार्थी अलग अलग टॉपिक पढ़ सकता है या टेस्ट दे सकता है। कोविड के समय में विद्यार्थियों की क्लास का खासतौर से ध्यान रखा जा रहा है और नियमित कक्षाएं भी शुरू कर दी गयी है। यही कारण है की गीता संस्थान पढाई के साथ- साथ प्लेसमेंट में भी अव्वल रहता है। कोरोना से निपटने के लिए संस्थान की ओर से अन्य कई कार्य किये गए जिस से समाज व आस पास के क्षेत्र को फायदा हुआ है।

इसमें चयन के लिए आठ सब थीम रखे गए थे और पूरे भारत के सभी संस्थान और इसमें अध्ययनरत विद्यार्थी 17 अप्रैल से 30 मई तक इस अवार्ड के लिए ऑनलाइन आवेदन दे सकते थे। इसी क्रम में गीता संस्थान ने भी विश्वकर्मा अवार्ड के लिए आवेदन किया।

सर्वश्रेष्ठ संस्थान अवार्ड के लिए थीम इंडिया फाइट्स कोरोना रखा गया है। साथ ही इस अवार्ड के लिए 13 बिन्दुओं पर संस्थान को खरा उतरना होगा। इसमें सर्वश्रेष्ठ बेहतर कार्य करने वाले संस्थान के नाम यह अवार्ड होगा। विश्वकर्मा अवार्ड के लिए रोजी-रोटी, कचरा प्रबंधन, फसल अपशिष्ट प्रबंधन (पराली / पारा आदि), ग्रामीण हस्तशिल्प और कृषि उद्योग का मूल्यवर्धन, खेत, पानी और ऊर्जा को सब थीम के रूप में रखा गया है।

TEAM VOICE OF PANIPAT 

Share: