वायस आफॅ पानीपत (कुलवन्त सिंह)- एसडी कॉलेज के प्रधान डॉ. एसएन गुप्ता की सदस्यता खत्म करने के रजिस्ट्रार के आदेश पर एसडी एजुकेशन सोसायटी ने अब तक कोई फैसला नहीं लिया है। संभव है कि जल्द ही कॉलेज में प्रशासक बैठा दिया जाए। वहीं, सोसायटी के कर्ता-धर्ता प्लानिंग कर रहे हैं कि प्रशासक के बैठने से पहले कॉलेज की कार्यकारिणी को भंग कर नए सिरे से चुनाव की घोषणा कर दें। जिला रजिस्ट्रार क्षितिज ने कहा कि आदेश पर अमल नहीं हुआ तो प्रशासक के लिए ऊपर लिखा जाएगा। वहीं अगर डॉ. गुप्ता सदस्यता खत्म करने के खिलाफ कोर्ट में अपील कर देते हैं तो इस पर फैसला आने के बाद ही कुछ होगा।सोसायटी के प्रधान विजय अग्रवाल ने एक साथ कइयों के खिलाफ मोर्चा खोल दिया, इसलिए सोसायटी के सदस्यों ने विजय अग्रवाल को निपटा दिया। प्रधान पद से हटाकर रोहित गर्ग को प्रधान बना दिया। रजिस्ट्रार का आदेश था कि एसडी कॉलेज के प्रधान डॉ. गुप्ता की सदस्यता खत्म की जाए। सचिव दिनेश गोयल डॉ. गुप्ता की सदस्यता बचाने के प्रयास में थे। इसलिए, क्लेरीफिकेशन लेकर रजिस्ट्रार को जवाब भेज दिया।

रजिस्ट्रार ने सचिव को लेटर जारी कर पूछा कि सदस्यता रद करने पर क्या फैसला लिया। इस पर जब प्रधान विजय अग्रवाल ने कहा कि सोसायटी को तो रजिस्ट्रार के फैसले का सम्मान करना चाहिए। अगर किसी की सदस्यता का विवाद है तो उन्हें अपने स्तर पर निपटाना चाहिए। इसी पर विवाद बढ़ गया। विजय ने सचिव दिनेश गोयल को लिखी चिट्‌ठी में पवन गर्ग और सतीश चंद्रा के खिलाफ मोर्चा खोला। पवन की निगरानी में सेक्टर-6 में स्कूल बन रहे हैं। निर्माण पर 29 करोड़ खर्च हो चुके हैं। विजय ने लिखा कि इसकी डिटेल नहीं बताई जा रही। साथ में ही विजय अग्रवाल ने चिट्‌ठी में यह भी लिखा कि एसडी स्कूलों की बसों में एसडी जूनियर विंग के चेयरमैन सतीश चंद्रा के पेट्रोल पंप से डीजल भरा जा रहा है। यह भी गलत है। विजय अग्रवाल ने रजिस्ट्रार, सोयायटी के सचिव दिनेश को चिट्‌ठी लिख प्रधान पद से हटाए जाने को गलत बताया। अग्रवाल ने दिनेश को पूर्व सचिव लिखा है। कहा कि दिनेश को सचिव नहीं मानते, क्योंकि वे कभी मीटिंग में नहीं आए।

TEAM VOICE OF PANIPAT

Share: